• श्री हनुमानबाग मंदिर
  • श्री हनुमानबाग मंदिर
  • श्री हनुमानबाग मंदिर

 Sanskrit-Education / संस्कृत विद्यालय

संस्कृत विद्यालय -


संस्कृत भाषा सनातन धर्म की सबसे प्राचीन भाषा है। यह भाषा बहुत सी भाषाओं की जननी है। भारत देश के प्राचीन गं्रथ, वेद आदि की रचना संस्कृत से ही हुई थी। इसी कारण इसे वैदिक भाषा भी कहते हैं। यह भाषा अपनी दिव्य एवं दैवीय विशेषताओं के कारण आज भी उतनी ही प्रासंगिक एवं जीवंत है। संस्कृत भाषा आज देश की कम बोले जाने वाली भाषा बन गई है, लेकिन इस भाषा के महत्व को हम सब जानते हैं। आज आवश्यकता है संस्कृत के विभिन्न आयामों पर फिर से अनुसंधान करने की, इसके प्रति जनमानस में जागृति लाने की, क्योंकि संस्कृत हमारी संस्कृति का प्रतीक है। संस्कृति कि रक्षा एवं विकास के लिये संस्कृत को महत्व प्रदान करना आवश्यक है। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिये श्रीराम भक्त हनुमान बाग सेवा समिति एक संस्कृत विद्यालय को प्रारंभ करना प्रस्तावित है जिसमें संस्कृत का निःशुल्क ज्ञान प्रदान किया जायेगा।